कृषिTop News

Bhais Palan: भैस की यह नस्ल देती है रोज 30 से 35 लीटर तक दूध, जानिए कौनसी है यह नस्ल

Bhais Palan: हमारा देश कृषि प्रधान देश है यहाँ खेती के साथ में पशुपालन भी बड़े पैमाने पर किया जाता है, दूध उत्पादन के लिए मुख्य रूप से गांव और भैस का पालन किया जाता है, इसी में बता दे की जाफराबादी भैस की एक नस्ल जो की अच्छे दूध के उत्पादन के लिए जनि जाती है. यह नस्ल मूल रूप से गुजरात के जाफराबाद क्षेत्र में विकसित की गई थी, और अब यह पूरे भारत में पाई जाती है। तो आइये जानते है इसके बारे में…

यह भी पढ़े- Makka ki Varayti: मक्के की यह उन्नत वैरायटी देती है औसत 70 से 75 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक पैदावार

जाफराबादी भैस की पहचान और विशेषता

जाफराबादी भैस की पहचान अगर बताये तो जाफराबादी भैंस अपनी उच्च दूध उत्पादन क्षमता के लिए प्रसिद्ध हैं। जाफराबादी भैंस काले या भूरे रंग की होती हैं, जिनके सिर पर सफेद धब्बे होते हैं। इनकी सींगें छोटी और पीछे की ओर मुड़ी होती हैं। जाफराबादी भैंस मजबूत और शक्तिशाली होती हैं, जिसके कारण इन्हें खेतों में काम करने और भारी वस्तुओं को खींचने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जाफराबादी भैंस विभिन्न प्रकार की जलवायु और परिस्थितियों में अनुकूलित हो सकती हैं। जाफराबादी भैंसों में रोगों के प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है।

जाफराबादी भैस की दूध देने की क्षमता

जाफराबादी भैस की दूध देने की क्षमता की बात करे तो इस नस्ल की भैस 30 से 35 लीटर तक दूध प्रतिदिन देती है और यह भैस 1200 से 1500 किलोग्राम दूध औसत एक ब्यात में देती है यह भैस 3-4 साल की उम्र में प्रजनन के लिए तैयार हो जाती है. जाफराबादी भैंसों का जीवनकाल 15-20 वर्ष होता है।

यह भी पढ़े- Gehu Ka Bhav: गेहूं का नया भाव क्या है? जानिए देश की प्रमुख मंडियों में आज का भाव

जाफराबादी भैस का आहार

जाफराबादी भैस के आहार का देखे तो जाफराबादी भैंसों को हरा चारा, सूखा चारा, दाना और खनिज पूरक आहार खिलाना चाहिए। आनाजो में इसे मक्का, गेहूं, जौ, जई और बाजरा भी खिलाया जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button